मोटापे के कारण होनेवाले फैटी लीवर रोग के लिए कैनाबिस थेरपी पर सीआईआईटेक के प्रायोजकों की जेरूसलम के हिब्रू यूनिवर्सिटी में अनुसंधान

मोटापे के कारण होनेवाले फैटी लीवर रोग के लिए कैनाबिस थेरपी पर सीआईआईटेक के प्रायोजकों की जेरूसलम के हिब्रू यूनिवर्सिटी में अनुसंधान

लंडन, यूके और तेल अवीव, इस्राइल, X जनवरी 2018 – यूके-इस्राइल कैनाबिस बायोटेक स्टार्ट-अप, सीआईआईटेक ने आज घोषित किया कि उसने एक अनुसंधान योजना को प्रायोजित करने का तय किया है जिसका लक्ष्य नॉन अल्कोहोलिक फैटी लीवर डिसीज (एनएएफएलडी) के उपचार में सहायक फायतोकैनबिनोईड के वैद्यकीय लाभ के बारे में जानना हैं और यह बीमारी अक्सर मोटापे से संबंधित सामान्य और संभावित रूप से गंभीर स्थिति है और रुग्णता तथा मृत्यु-दर का प्रमुख कारण है।

मोटापा एक वैश्विक महामारी है। आज, ओइसीडी देशों में दो में एक से अधिक वयस्क और छह में से तकरीबन एक बच्चा ज्यादा वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं। 2015 में, यूके में 26.9% वयस्क मोटे होने की नोंद की गई थी यह आंकड़ा युएस के 38.2% वयस्क तक बढ़ रहा हैं। मोटे लोगों में से 80% लोगों को एनएएफएलडी हैं।

सीआईआईटेक ने डॉ. जोसेफ टैम, मोटापा और चयापचय प्रयोगशाला के प्रमुख और संचालक, कैनबिनोईड अनुसंधान का मल्टीडीसीप्लीनरी केंद्र, दोनों भी जेरुसलम के हिब्रू युनिवर्सिटी में रहते हैं, दोनों के काम के लिए नॉन-एक्सक्लूसिव अनुदान प्रतियोगिता के माध्यम से अनुसंधान के लिए निधी देने का फैसला किया हैं। यह विशिष्ट अध्ययन इस बात की जाँच करेगा कि सीबीडी सहित नॉन-सायकोएक्टिव कैनाबिस कम्पाउंडिंग फैटी लीवर सेल्स के वृद्धि को रोक सकता हैं या नहीं।

हाल ही के अध्ययनों से यह पता चला है कि, एंडोकैनबिनोईड, स्तनधारी के शरीर में मौजूद बायोलोजिकल एंडोजीनस लिगैंड्स और जो कैनबिनोईड रिसेप्टर्स के साथ जुड़े हुए हैं, एनएएफएलडी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा, सीबीडी लीवर में जमे हुए फैटी एसिड को ठीक करता है और उच्च-वसा वाला आहार लेनेवाले चूहों में वजन को बढ़ने से रोकता है।

डॉ. टैम का कहना है, “हम इस अध्ययन में यह खोज रहे हैं कि, क्या सीबीडी और अन्य नॉन-सायकोएक्टिव कैनाबिस कम्पाउंडस फैटी लीवर सेल्स के वृद्धि को घटा सकते है, कम कर सकते है या उल्टा कर सकते है और उन्हें रोक सकते है।”

डॉ. टैम आगे कहते हैं, “दुनियाभर की संस्थाएं और फर्मास्यूटिकल कंपनियाँ मोटापे से निपटने की नयी रणनीतियों को विकसित करने का बहुत प्रयास कर रही हैं।”

जेरुसलम की हिब्रू युनिवर्सिटी को दुनियाभर में कैनाबिस वैज्ञानिक अनुसंधान का महत्वपूर्ण केंद्र माना जाता है। कैनाबिस अनुसंधान पर हाल ही में बना हुआ उनका बहु-विषयक केंद्र दुनिया के एक अग्रणी संस्था के रूप में कार्य करता है। इस्राइल के सहायक विनियामक पर्यावरण और सहयोगी स्वास्थ्य देखभाल परिस्थितिकी तंत्र ने देश को वैद्यकीय कैनाबिस में अग्र-स्थान पर रखा है।

सीआईआईटेक के संस्थापक, क्लिफ्टन फ्लैक का कहना हैं, “सीबीडी के पास कई स्वास्थ्य लाभ है और इस अध्ययन के साथ, हमें लगता हैं कि कैनाबिस प्राकृतिक रूप से वजन घटाने के थेरपी को नए युग में ले जा सकती हैं।” “यूके में ऐसे कई लोग हैं जिन्हें लगता है कि, उनके लिए वैद्यकीय कैनाबिस उपलब्ध नहीं हैं। नॉन-सायकोएक्टिव कैनाबिस सप्लीमेंट ग्राहकों को स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक अच्छा विकल्प प्रदान करते हैं और यह दर्शाते है कि यूके जैसे देश को वैद्यकीय कैनाबिस का लाभ लेने के लिए उसे वैध बनाने की जरूरत क्यों नहीं है।”

अधिक जानकारी के लिए, कृपया यहाँ संपर्क करें:
pr@ciitech.co.il

सीआईआईटेक के बारे में
सीआईआईटेक एक कैनाबिस बायोटेक कंपनी है जो वैद्यकीय कैनाबिस उत्पादनों के अनुसंधान, विकास और व्यावसायीकरण पर ध्यान केन्द्रित करती है। इस्राइल और यूके एवं यूरोप के अग्रणी संस्थानों के साथ सहयोग करके, सीआईआईटेक इस्राइल के आधुनिक कैनाबिस नवाचार के पूरी संभावना का फायदा लेते है। यूके में स्थित इ-कॉमर्स दुकान के माध्यम से इस्राइली कैनाबिस उत्पादन पहली बार और विशेष रूप से विदेशों में भी उपलब्ध हैं। अधिक जानकारी के लिए ciitech.co.uk पर जाएं।

Share this article

Share on linkedin
Share on reddit
Share on twitter
Share on email